रायपुर
 इंजीनियरिंग कॉलेजों की सीट भरने के लिए प्रबंधन एक से बढ़कर एक ऑफर दे रहे हैं। निजी इंजीनियरिंग कॉलेज प्रबंधन विद्यार्थियों को प्रवेश लेने पर बाइक फ्री, पूरे चार साल की पढ़ाई बिल्कुल मुफ्त, मोबाइल फोन, लैपटॉप, हॉस्टल तक की फ्री सुविधा देने का दावा कर रहे हैं। अभिवावक व छात्रों को फोन कर भी कॉलेज की विशेषताओं का बखान करते हुए उन्हें प्रवेश के लिए प्रभावित करने की कोशिश कर रहे हैं।

सोशल मीडिया के जरिए लुभावने ऑफर भी पहुंचाए जा रहे हैं। पांच वर्षों से लगातार इंजीनियरिंग शिक्षा के घट रहे रुझान की वजह से कॉलेज प्रबंधन अलग-अलग पैंतरे आजमा रहा है। उल्लेखनीय है कि प्रदेश में 46 इंजीनियरिंग कॉलेजों में 17 हजार 500 सीटें हैं। पीईटी की दो चरणों की काउंसिलिंग पूरी हो गई है।

अब तक केवल 4599 सीटें भरी हैं। कुछ कॉलेज ऐसे भी हैं जिनका खाता भी नहीं खुला है। तीसरे और अंतिम दौर की काउंसिलिंग 12 जुलाई से शुरू हो रही है। रैंक के आधार पर कॉलेज अलॉट होगा। 2017 में यही हालात थे और केवल 40 फीसद सीट ही भर पाई थी।

सिविल और मैकेनिकल तक में छूट

इंजीनियरिंग में सबसे ज्यादा सिविल और मैकेनिकल ब्रांच की डिमांड रहती है। सबसे पहले इन दोनों ब्रांच की सीटें भरती थीं, लेकिन पिछले कुछ वर्षों से इसकी भी सीटें खाली रहने से कॉलेज प्रबंधन की दिक्कत और बढ़ गई है। अब इस ब्रांच में प्रवेश लेने वाले छात्रों को भी लुभावने ऑफर दिए जा रहे हैं।

कुछ इस तरह के हथकंडे

कई ऐसे इंजीनियरिंग कॉलेज हैं जो अलग-अलग कैटेगरी के बच्चों को चार साल की पढ़ाई फ्री में कराने का दावा कर रहे हैं। दरअसल, ये कॉलेज बच्चों से कोई फीस नहीं लेते, लेकिन बच्चों को चार साल तक मिलने वाली स्कॉलरशिप संस्थान खुद रख लेता है। एक छात्र को 20 से 25 हजार तक स्कॉलरशिप मिलती है।

इस तरह के मिल रहे ऑफरः

- पीईटी में रैंक जितना भी हो, मनपसंद ब्रांच में मिलेगा एडमिशन।

- प्रवेश लेने पर एसटी, एससी या ओबीसी वर्ग के छात्रों को विशेष स्कॉलशिप।

- फीस इंस्टालमेंट में देने की सुविधा।

- कंप्यूटर साइंस ब्रांच में प्रवेश पर फीस में सालाना 15 से 20 हजार रुपयों की छूट।

- सिविल व मैकेनिकल ब्रांच पर सालाना पांच से 10 हजार रुपयों की छूट।

- हॉस्टल में प्रवेश लेने के साथ मेस फ्री।

- 100 फीसद प्लेसमेंट का दावा।

- शैक्षणिक भ्रमण के लिए प्रत्येक वर्ष विदेश का टूर।

- हाइटेक क्लास रूम की सुविधा।

प्रवेश से पहले प्राप्त करें जानकारी

जो इंजीनियरिंग कॉलेज सीट भरने के लिए ऑफर दे रहे हैं, उनसे बच के रहना होगा। किसी भी कॉलेज में प्रवेश लेने से पहले कॉलेज से जुड़ी समस्त जानकारी पता लगाएं। यह भी देखें कि विगत दो-तीन वर्षों में कॉलेज की क्या स्थिति रही। किसी के कहने या फिर ऑफर के लालच में प्रवेश न लें। - -वीएस राव, एक्सपर्ट, तकनीकी शिक्षा

Source : Agency