आगरा
बहुचर्चित भारतीय वन सेवा के अधिकारी एके जैन जिनका शाहजहांपुर में सड़क दुर्घटना में निधन हो गया था, का अंतिम संस्कार ताजमहल के निकट ताजगंज विद्युत शवदाह गृह पर उनकी बेटी पूजा जैन ने मुखाग्नि देकर किया। इस दौरान भारी भीड़ रही। हर किसी की जुबान पर एक ही बात थी कि एके जैन की हत्या की गई है।

भ्रष्टाचार के खुलासे के कारण एके जैन वन विभाग के अधिकारियों की आंखों की किरकिरी बने हुए थे। वन संरक्षण अधिकारी जैन का परिवार ग्रेटर नोएडा के गीटा वन सेक्टर में रहता है। वह मंगलवार की मध्य रात्रि में अपने आवास से लखनऊ के लिए चले थे। नाजिम कार चला रहा था। वे बुधवार सुबह 5 बजे बरेली पहुंचे। बरेली से फालोवर संदीप को साथ लिया। उसके यहां चाय भी पी। संदीप ड्राइवर की बगल में था और एके जैन पीछे की सीट पर बैठे थे।

सुबह 6 बजे के आसपास थाना तिलहर के एनएच-24 नगरिया मोड़ के पास कार आगे चल रहे टैंकर के पीछे जा घुसी। इसके परिणाम स्वरूप जैन की मौत हो गई। पुलिस ने सुबह 9 बजे जैन के शव का पंचनामा भरा और पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। दोपहर अढ़ाई बजे के आसपास जैन के भाई विवेक जैन तथा पुत्री पूजा जैन शाहजहांपुर पहुंचे।

Source : Agency