नई दिल्ली 
दिग्गज इंटरनेट कंपनियों के रवैये पर कड़ा स्टैंड लेते हुए सरकार ने कहा है कि उन्हें जिम्मेदार व्यवहार करना होगा ताकि यूजर्स आपत्तिजनक कॉन्टेंट पर रिपोर्ट कर सकें। सरकार ने कहा कि उन्हें यूजर्स को यह सुविधा देनी होगी ताकि ऐक्शन लिया जा सके। आईटी सेक्रटरी अजय पी. साहनी ने कहा, 'सोशल प्लैटफॉर्म्स को खुद से ऐसे कदम उठाने होंगे ताकि सबस्क्राइबर्स को उनका इस्तेमाल करने में भरोसा पैदा हो सके।' 
 

यह चेतावनी ऐसे वक्त में दी गई है, जब सरकार ने टेलिकॉम कंपनियों और इंडस्ट्री असोसिएशन से पूछा है कि वे बताएं कि कैसे फेसबुक, इंस्टाग्राम, वॉट्सऐप और टेलिग्राम जैसे ऐप्स को जरूरत पड़ने पर ब्लॉक किया जा सकता है। सरकार ने पूछा है कि सामाजिक व्यवस्था भंग होने या राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा होने की स्थिति में किस प्रकार इन पर लगाम कसी जा सकती है। 

साहनी ने कहा कि सरकार ने इन प्लैटफॉर्म्स पर तब-तब ऐक्शन लिया है, जब इनके द्वारा आईटी ऐक्ट के प्रावधानों का उल्लंघन किए जाने की बात सामने आई है। उन्होंने कहा, 'इस तरह का मसला जब भी सामने आया है, तब हमने उससे निपटने का प्रयास किया है। हमने सर्विस प्रवाइडर्स को इस बारे में बताया है।' 

Source : Agency