नई दिल्ली
भारत को 2014 में एशियाई खेलों का स्वर्ण पदक दिलाकर सीधे रियो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई कराने वाले पूर्व कप्तान और स्टार मिडफील्डर सरदार सिंह ने शुक्रवार को कहा कि इंडोनेशिया एशियाई खेलों में इस बार स्वर्ण पदक जीतना एक चैलेंज होगा।  सरदार ने यहां भारतीय खिलाड़ियों के लिए आयोजित विदाई समारोह से इतर यूनीवार्ता को साक्षात्कार में कहा, ''भारत एशियाई खेलों में सबसे मजबूत टीम के रूप में उतर रहा है। लेकिन हमें मैदान पर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने की जरूरत रहेगी। यहां स्वर्ण पदक जीतकर टोक्यो ओलंपिक के लिये सीधे क्वालीफाई करना एक बड़ी चुनौती रहेगी।'' 

विश्व की बड़ी टीमों को हराकर मनोबल बढ़ा
पूर्व कप्तान ने कहा, ''हमने हाल में कोरिया और न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीका और एफआईएच चैंपियंस ट्रॉफी में अच्छा परिणाम दिया था। लेकिन सुधार की हमेशा गुंजाइश रहती है। कुछ कमियां हैं जिनपर हम अपने कैंप में काम कर रहे हैं और उन्हें दूर कर लेंगे।'' मिडफील्डर ने कहा, ''खिलाड़ी एशियाई खेलों को लेकर बेहद रोमांचित हैं। कोच ने हमें जो काम दिए हैं यदि हम उन्हें अच्छी तरह पूरा करते हैं और हमारे बेसिक्स ठीक रहते हैं तो हम एशियाई टीमों को अच्छे अंतर से हरा सकते हैं।'' चैंपियंस ट्रॉफी के रजत पदक और उससे एशियाई खेलों के लिए मनोबल मजबूत होने के बारे में पूछने पर सरदार ने कहा, चैंपियंस ट्रॉफी में हम सभी का लक्ष्य स्वर्ण पदक जीतना था और फाइनल हारने के बाद हम ज्यादा रोमांचित नहीं थे क्योंकि हमने लक्ष्य हासिल नहीं किया था। इस टूर्नामेंट में हमने विश्व की बड़ी टीमों को हराया था जिससे खिलाड़ियों का मनोबल बढ़ा है। एशियाई खेल नया टूर्नामेंट है और हर टीम मजबूती के साथ उतरेगी इसलिए हम किसी भी टीम को हल्के में नहीं लेंगे।'' 

Source : Agency