भुवनेश्वर 

बंगाल की खाड़ी पर बने दबाव के कारण आया चक्रवाती तूफान 'तितली' भयावह रूप लेता जा रहा है। बुधवार को चक्रवात के खतरे को देखते हुए ओडिशा और आंध्र प्रदेश ने ऐतिहाती कदम उठाने शुरू कर दिए थे। गुरुवार तड़के ओडिशा के तटीय इलाके गोपालपुर में इसका भयानक रूप देखने को मिला। मिल रही जानकारी के मुताबिक यहां गोपालपुर में तूफान के कारण कई पेड़ और बिजली के खंभे उखड़ गए हैं। वहीं इलाके में तेज बारिश हो रही है। तटीय इलाकों में तेज हवाएं चल रही हैं। चक्रवात की भयावहता को देखते हुए ओडिशा सरकार ने 18 जिलों में रेड अलर्ट जारी किया है। सरकार ने ऐतिहात बरतते हुए बुधवार को ही तटीय इलाकों से करीब तीन लाख लोगों को बाहर निकाल लिया था।  
 
मौसम विभाग ने इस तूफान की रफ्तार 165 किलोमीटर प्रतिघंटा पहुंचने की भी आशंका जताई है। भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने बुधवार को बताया था कि इस चक्रवात के कारण 145 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से तेज हवाएं चल सकती हैं। चक्रवात के खतरे को देखते हुए ओडिशा और आंध्र प्रदेश सरकार ऐहतियाती कदम उठा रही है। करीब तीन लाख लोगों को निचले इलाके से निकाला गया है। दोनों राज्यों में एनडीआरएफ की टीमों को तैनात कर दिया गया है। 

 
ओडिशा के समुद्र से सटे जिलों में अभी से तेज हवाएं चल रही हैं। तितली तूफान 140-150 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से चल रहा है। ओडिशा के गोपालपुर में हवा की रफ्तार 102 किमी प्रति घंटा और आंध्र प्रदेश के कलिंगपत्तनम में यह 56 किमी प्रति घंटा दर्ज की गई है। पांच जिलों के जिलाधीशों को निचले इलाके से लोगों को निकालने का आदेश दे दिया गया है। इसके अलावा राहत के पर्याप्त इंतजाम किए गए हैं। 

ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक ने बुधवार को बताया कि करीब तीन लाख लोगों को तटीय इलाकों से हटाया गया है। विशेष राहत आयुक्त के साथ रिव्यू मीटिंग के बाद सीएम ने कहा, 'अगर जरूरी होगा तो और लोगों को भी सुरक्षित स्थानों पर ले जाया जाएगा।' पटनायक ने कहा, 'कम-से-कम नुकसान के लिए सरकार प्रतिबद्ध है। राज्य सरकार स्थिति पर करीबी नजर रखे हुए हैं। जिलाधिकारियों को अलर्ट पर रखा गया है।' 


पांच जिलों गुंजम, पुरी, खुरा और केंद्रापाड़ा से लोगों को निकाला जा रहा है। ओडिशा में तितली तूफान, बीती रात तक तटीय इलाकों से 10,000 लोगों को सरकारी आश्रयगृहों में पहुंचाया गया।  

ओडिशा में स्कूल, कॉलेज रहेंगे बंद 

ओडिशा सरकार ने राज्य के सभी स्कूल, कॉलेज और आंगनवाड़ी केंद्रों को 11 और 12 अक्टूबर को बंद करने का आदेश दिए हैं। मुख्य सचिव आदित्य प्रसाद पाधी ने कहा कि राज्य में 11 अक्टूबर को होने जा रहे छात्र संघ चुनावों को रद्द कर दिया गया है। चक्रवात और इसके साथ भारी बारिश आने की संभावना के बीच सभी अधिकारियों की छुट्टियों पर रोक लगा दी गई है। तूफान और बारिश से पूरे राज्य के चपेट में आने की आशंका है। 

ओडिशा में रेलवे भर्ती परीक्षा रद्द 
चक्रवाती तूफान 'तितली' के मद्देनजर 11 और 12 अक्टूबर को भुवनेश्वर, कटक, ढेंकनाल, संभलपुर, खुर्दा और बेरहमपुर में होने वाली रेलवे भर्ती बोर्ड की परीक्षा रद्द कर दी गई है। नई तारीख और जगह का विवरण अभ्यर्थियों को उनके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर और ई-मेल पर भेज दिया जाएगा। 

बाढ़ का भी अलर्ट 
ओडिशा सरकार ने चक्रवात के देखते हुए कुछ इलाकों में बाढ़ की चेतावनी भी जारी की है। राज्य सरकार ने सभी जिलों खासकर तटीय जिलों में हाई अलर्ट की घोषणा कर दी है। 
 

Source : Agency