रायपुर
छत्तीसगढ़ में चुनावी पारा चढ़ चुका हैं. पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी की पार्टी के साथ गठबंधन कर खुद को मजबूत मान रही बसपा को चुनावी टॉनिक देने के लिए खुद पार्टी सुप्रीमो मायावती 13 अक्टूबर को छत्तीसगढ़ आ रही हैं. छत्तीसगढ़ में बसपा अपनी पार्टी की जड़ो को मजबूत करने की कोशिश कर रही है. इसके लिए बसपा को पार्टी सुप्रीमो मायावती की 'माया' पर भरोसा है. इसलिए पार्टी बिलासपुर में होने वाली मायवती की आमसभा में भीड़ जुटाने पूरी ताकत लगा रही है.

बहुजन समाज पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष ओपी बाजपेयी का कहना है कि मायावती की आमसभा को ऐतिहासिक बनाने की कोशिश की जा रही है. बिलासपुर के सरकंडा में होने वाली इस आमसभा में पूरे छत्तीसगढ़ से लोग पहुंचेगे. इसके लिए पार्टी के पदाधिकारी व कार्यकर्ता हर स्तर पर काम करे हैं. ओपी बाजपेयी का मानना है कि मायावती की आमसभा का सीधा लाभ बसपा को आगामी विधानसभा चुनाव में होगा.

मायावती की आमसभा से बसपा को लाभ के पीछे पार्टी का अपना तर्क है. बसपा के पदाधिकारी कहते हैं कि प्रदेश में कुल 1 करोड़ 81 लाख 79 हजार 435 मतदाताओं में से करीब 12 फीसदी एससी वर्ग के मतदाता हैं. एससी वर्ग बसपा का वोट कैडर वर्ग है. ऐसे में नीतिगत तरीके से एससी बाहुल्य सीटों वाले बिलासपुर संभाग में मायावती की सभा का आयोजन किया जा रहा है.

Source : Agency