नई दिल्ली
कें्रदीय जांच ब्यूरो ने तमिलनाडु गुटका घोटाले के सिलसिले में राष्ट्रपति से सम्मानित प्रवर्तन निदेशालय के एक वरिष्ठ अधिकारी से पूछताछ की । इस घोटाले में कई राजनेता, पुलिसकर्मी, सीमाशुल्क और उत्पाद अधिकारी जांच के दायरे में हैं। अधिकारियों ने हालांकि यह बताने से इंकार कर दिया कि प्रवर्तन निदेशालय में उप निदेशक के पद पर तैनात एस के श्योराण से गवाह के तौर पर पूछताछ की गयी है या मामले के संदिग्ध के तौर पर। उन्होंने बताया कि जब कथित तौर पर यह घोटाला हुआ उस समय श्योराण सेंट्रल एक्साइज इंटेलिजेंस निदेशालय में सहायक निदेशक के तौर पर तैनात थे । यह पूछताछ उनके काम से संबंधित है ।

उन्होंने बताया कि भारतीय राजस्व सेवा (सीमा शुल्क एवं कें्रदीय उत्पाद शुल्क) के अधिकारी श्योराण से जांच एजेंसी ने चेन्नई स्थित कार्यालय में गुरूवार को पूछताछ की। श्योराण को उनकी सेवाओं के लिए 2015 में राष्ट्रपति की तरफ से प्रशस्ति पत्र मिल चुका है। उन्होंने बताया कि जांच एजेंसी ने इस घोटाले के सिलसिले में चेन्नई स्थित कार्यालय में विल्लुपुरम के पुलिस अधीक्षक जयकुमार से भी पूछताछ की। उस वक्त वह कें्रदीय अपराध शाखा में उपायुक्त के पद पर तैनात थे। इस घोटाले का पर्दाफाश उस समय हुआ जब आठ जुलाई 2017 को आयकर विभाग के गुटका निर्माता के आवास और कार्यालय में छापे के दौरान एक डायरी जब्त की गयी। इसमें पुलिस, राजनेताओं और अन्य अधिकारियों को भुगतान किये गए रूपये का जिक्र था ।

Source : Agency