ग्वालियर

मध्य प्रदेश की राजनीति में भले ही सिंधिया राजघराने की ताकत ज्योतिरादित्य के जरिए एक बार फिर कांग्रेस के पाले में हो लेकिन जीवाजी राव सिंधिया, राजमाता विजयाराजे, यशोधरा राजे और राजस्थान में वसुंधरा राजे इसी घराने के उन कुछ नामों में से हैं जो हिंदू महासभा, जनसंघ और अब बीजेपी में रहकर कांग्रेस विरोधी राजनीति के कद्दावर चेहरे माने जाते रहे.

विजयाराजे के राजनीतिक जीवन की शुरुआत भले ही कांग्रेस के जरिए हुई थी लेकिन पार्टी छोड़ने के बाद उन्होंने कभी समझौता नहीं किया और एमपी में कांग्रेस की सरकार गिराने का कारनामा तक कर डाला. ग्वालियर के इलाके की सीटों पर आज भी इस घराने का प्रभाव माना जाता है और विजयाराजे की जन्मशती पर ग्वालियर से लेकर दिल्ली तक पांच दिनों की रिले-मैराथन दौड़ आयोजित कर बीजेपी इसी प्रभाव को वोट में बदलने की कोशिश करती नज़र आती है.

बीजेपी ने राजमाता विजयाराजे
विजयाराजे सिंधिया की जन्मशती मनाने के लिए बीजेपी महिला मोर्चा ग्वालियर से लेकर दिल्ली तक पांच दिनों की रिले-मैराथन दौड़ आयोजित कर रही है. इस रैली के माध्यम से पार्टी यह बताने की कोशिश करने वाली है कि वो पहले से ही महिलाओं को राजनीति में प्रतिनिधित्व देती आई है. और मोदी सरकार में महिलाओं के सशक्तीकरण के लिए किस तरह की योजनाएं चलाई जा रही हैं. ग्वालियर के सिंधिया राजवंश की राजमाता विजया राजे सिंधिया का जन्म शताब्दी वर्ष 12 अक्टूबर से शुरू हो रहा है. बता दे कि विजयाराजे बीजेपी के संस्थापक सदस्यों में से एक रही हैं. बीजेपी महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष विजया राहटकर ने बताया, 'यह राजमाता विजयाराजे सिंधिया को हमारी श्रद्धांजलि होगी. उनके जन्म के सौ साल होने पर हम देश भर में कार्यक्रम आयोजित कर रहे हैं.'

Source : Agency