भोपाल 
कमलनाथ मंत्रिमंडल गठन को लेकर हो रही चर्चाओं के बीच शपथ ग्रहण कार्यक्रम तय हो गया है। कमलनाथ मंत्रिमंडल का शपथ ग्रहण समारोह 25 दिसंबर को आयोजित होगा। यह कार्यक्रम राजभवन में होने वाला दोपहर तीन बजे से शुरू होगा। 

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री कमलनाथ ने संभावित मंत्रियों की सूची लेकर नाम तय करने गुरुवार को दिल्ली पहुंचे थे। उन्होंूने यहां कांग्रेस के वरिष्ठत नेताओं से मुलाकात कर नामों पर चर्चा की। सूत्रों के अनुसार मंत्रिमंडल गठन में लोकसभा चुनाव को फोकस किया जा रहा है। साथ ही गुटीय और क्षेत्रीय संतुलन को बनाए रखने पर ध्यान दिया जा रहा है। कांग्रेस को चार निर्दलियों के साथ सपा और बसपा ने भी समर्थन दिया है। इन विधायकों को भी मंत्री पद देने पर विचार किया जा सकता है। 
 
यह हैं मध्यप्रदेश के संभावित मंत्री
मध्य से पीसी शर्मा और अकील का नाम
-मध्य क्षेत्र से पांच मंत्री बनाने की चर्चा है। इसमें भोपाल उत्तर से आरिफ अकील, राजस्व मंत्री उमा शंकर गुप्ता को हराने वाले दक्षिण भोपाल से विधायक पीसी शर्मा, डा. प्रभु राम चौधरी, दिग्विजय सिंह के छोटे भाई लक्ष्मण सिंह और जयवर्धन सिंह को मंत्री बनाया जा सकता है।

ये बन सकते हैं मंत्री
मध्यप्रदेश की कांग्रेस सरकार में सबसे बड़ा मंत्रिमंडल हो सकता है। इसमें 37 नामों पर चर्चा संभव है। इनमें जातिगत समीकरणों और क्षेत्र को सामंजस्य बैठाने की कोशिश की जाएगी।

मालवा-निमाड़ से हो सकते हैं 11 मंत्री
कमलनाथ के करीबी माने जाने वाले पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा, हुकूम सिंह कराड़ा, विजय लक्ष्मी साधौ, बाला बच्चन, तुलसी सिलावट, उमंग सिंगार, जीतू पटवारी, सचिन यादव, राज्यवर्धन सिंह दत्तीगांव, दिलीप सिंह गुर्जर या रामलाल मालवीय मंत्री बनने की दौड़ में हैं।

-विंध्य से बिसाहू लाल और कमलेश्वर पटेल का नाम सबसे आगे है।

-ग्वालियर-चंबल अंचल से छह विधायकों को मंत्री बनाया जा सकता है। इनमें डॉ. गोविंद सिंह, केपी सिंह, एंदल सिंह कंसाना, लाखन सिंह, प्रद्मनयु सिंह और इमरती देवी प्रमुख हैं।

-बुंदेलखंड के जिन चार विधायकों को मौका मिल सकता है उनमें ब्रजेंद्र सिंह राठौर, गोविंद सिंह राजपूत, हर्षयादव और विक्रम सिंह शामिल हैं।

-इसके अलावा महाकौशल से 7 मंत्रियों को कमलनाथ की टीम में लेने की चर्चा है। इनमें एनपी प्रजापति, तरुण भानौत, दीपक सक्सेना, लखन घनघोरिया, ओमकार सिंह मरकाम, सुखदेव पांसे, हिना कावरे शामिल हो सकते हैं।

इनके अलावा कांग्रेस को समर्थन देने वाले दो निर्दलीय विधायकों प्रदीप जायसवाल और सुरेंद्र सिंह (शेरा) भी मंत्री बन सकते हैं।

ये बन सकते हैं विधानसभा अध्यक्ष
उधर, विधानसभा अध्यक्ष बनने की हौड़ में डॉ. गोविंद सिंह, केपी सिंह, डॉ. विजय लक्ष्मी साधौ, एनपी प्रजापति भी शामिल हैं। इनमें से किसी को यह पद सौंपा जा सका है।

Source : Agency