मथुरा 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को वृंदावन के चक्रोदय मंदिर में एक कार्यक्रम के दौरान गरीब स्कूली बच्चों को खाना परोसा। अक्षयपात्र फाउंडेशन का यह कार्यक्रम इसलिए भी खास रहा क्योंकि पीएम ने यहां स्कूली बच्चों को खाना खिलाते हुए 300 करोड़वीं थाली में खाना परोसा। पीएम ने इसके बाद एक जनसभा को भी संबोधित किया।  

अक्षयपात्र फाउंडेशन एक एनजीओ है जो सरकारी स्‍कूलों में चलने वाली मिड-डे मील योजना में सरकार के साथ काम करता है। इसकी स्‍थापना वर्ष 2000 में हुई थी। यह फाउंडेशन 12 राज्‍यों के 14702 स्‍कूलों में 10 लाख 60 हजार बच्‍चों को खाना उपलब्‍ध कराता है। पीएम मोदी के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से एक विडियो भी पोस्ट किया गया है, जिसमें वह बच्चों को खाना परोस रहे हैं। (यहां देखें विडियो) 

2016 में अक्षयपात्र फाउंडेशन ने तत्‍कालीन राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी की उपस्थिति में 200 करोड़वीं थाली खिलाई थी। 24 अक्‍टूबर, 2018 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नई दिल्‍ली में एक कार्यक्रम के दौरान अक्षयपात्र फाउंडेशन का जिक्र किया था। पीएम ने कहा था कि अक्षयपात्र एक सामाजिक स्‍टार्टअप है जो अब स्‍कूली बच्‍चों को भोजन मुहैया कराने की मुहिम में परिवर्तित हो गया है। 

'गाय हमारी परंपरा का हिस्सा' 
पीएम मोदी ने वृंदावन में एक सभा के दौरान गाय को भारत की परंपरा और संस्कृति का हिस्सा बताते हुए कहा, 'हमारी सरकार ने गो और गोवंश के स्वास्थ्य में सुधार के लिए कई कदम उठाए हैं। गाय ग्रामीण अर्थव्यवस्था का भी महत्वपूर्ण हिस्सा है।' 

पीएम ने कहा, 'हम गऊ माता का ऋण नहीं चुका सकते। गाय भारत की परंपरा और संस्कृति का महत्वपूर्ण हिस्सा है।' पीएम ने कहा कि उनकी सरकार ने राष्ट्रीय गोकुल मिशन की शुरुआत भी की है। पीएम मोदी ने कहा कि केन्द्रीय बजट में उनकी सरकार ने 'राष्ट्रीय कामधेनु आयोग' स्थापित करने के लिए 500 करोड़ रुपये का आवंटन भी किया है। 

Source : Agency