किचन में मौजूद छोटी सी अलसी न सिर्फ सेहत सुधारती है बल्कि इसके सेवन से गट माइक्रोबायोटा में बदलाव, मेटाबॉलिक हेल्थ को बूस्ट और खाने से होने वाले मोटापे को रोकने में भी मदद मिलती है। यह जानकारी अमेरिकन जनरल में प्रकाशित स्टडी 'फ़िज़ियॉलजी: एन्डोक्रनॉलजी मेटाबॉलिज़म' में सामने आई है।

स्टडी के दौरान चूहों पर अलसी के असर को नोट किया गया। इस दौरान देखा गया कि जिन चूहों को अलसी खिलाई गई वह दूसरे चूहों के मुकाबले ज्यादा ऐक्टिव थे, साथ ही उनका वजन भी ज्यादा नहीं बढ़ा। इन चूहों का ग्लूकोस कंट्रोल और गुणकारी फैटी ऐसिड का लेवल भी ज्यादा बेहतर था।

इस स्टडी में चूहों को चार अलग-अलग डायट ग्रुप में 12 सप्ताह के लिए बांटा गया था। जिन चूहों को हाई-फैट डायट दी गई उनमें मेटाबॉलिक हेल्थ को सुधारने वाले बैक्टीरिया और गुणकारी फैटी ऐसिड कम पाए गए। वहीं इनमें ऐसे बैक्टीरिया ज्यादा मात्रा में मिले जो शरीर में मोटापा बढ़ाते हैं।

रिसर्च में यह भी पाया गया कि अलसी में फर्मेंट फाइबर मौजूद होते हैं जो उन बैक्टीरिया को ठीक से काम करने में मदद करते हैं जिससे गुणकारी फैटी ऐसिड की मात्रा बढ़ती है। इस सब से पाचन क्रिया दुरुस्त रहती है और फैट बढ़ने के चांस कम हो जाते हैं।

इस स्टडी से साफ है कि अगर आप भी अपना वजन कम करना चाहते हैं तो अलसी आपके बड़े काम आ सकती है। ऐसे में अगर आपके किचन में अलसी नहीं है तो जल्द से खरीद लीजिए।

Source : Agency